1. home
  2. news
  3. Detail

स्किल इण्डिया से कम हुई गरीबी

image description

देश में सन 2000 से निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों की स्थापना शुरू हुई लेकिन 2014 के बाद केंद्र सरकार ने स्किल इण्डिया मिशन की शुरुआत की जिसके तहत सरकारी व निजी क्षेत्र में नये आईटीआई संस्थानों की स्थापना व अल्प-अवधि के स्किल डेवलपमेंट कोर्सेज का सन्चालन किया गया, एक सर्वे के अनुसार 125 मिलियन लोग गरीब व अत्यधिक गरीब की श्रेणी में आते थे और 2018 में यह संख्या घटकर 73 मिलियन रह गई है, स्किल डेवलपमेंट योजनाओं से युवाओं को प्रशिक्षण व रोजगार के अवसर प्राप्त हुए l जिसका सीधा असर गरीब परिवारों की आय पर पड़ा और करोड़ों गरीब परिवार निर्धनता की श्रेणी से बाहर आने में कामयाब हुए l सर्वे के अनुसार सरकार की योजनाएँ ऐसे ही काम करती रहे तो देश में मात्र 3% लोग अति-निर्धन की श्रेणी में आयेंगे तथा 2030 तक भारत पूर्णरूप से गरीबीमुक्त देश बन जाएगा l जो कार्य कृषि व अन्य रोजगार के संसाधन पिछले कई वर्षो से नहीं कर पा रहे थे वह कार्य स्किल डेवलपमेंट के माध्यम से पिछले 18 वर्षों में सम्पनं करने में कामयाबी हासिल हुई है l यदि इतिहास पर गौर करे तो किसी भी देश की अर्थव्यवस्था में ये तरक्की व रोजगार के अवसर उत्पन्न करने में औद्योगिकीकरण की अहम् भूमिका रही है l अमरीका के अन्दर 1870-1916 के मध्य अभूतपूर्व औद्योगिकीकरण किया गया, इस समयावधि में औद्योगिक इकाइयों की संख्या में 10 गुना से अधिक की वृद्धि हुई, जिसके कारण अमरीका 1950 तक विश्व की महाशक्ति व सबसे तेज गति से वृद्धि करने वाली अर्थव्यवस्था बनी l चीन ने यही कार्य 1960 के दशक से किया और 1990 तक औद्योगिकीकरण में विश्व में स्वयं को प्रथम स्थान पर स्थापित कर लिया l भारत में औद्योगिकीकरण की शुरुआत 1990 के दशक से प्रारम्भ हुई तथा पिछले 5 वर्षों में इसमें कई गुणा वृद्धि हुई, जिससे रोजगार के अवसरों में अत्यधिक वृद्धि हुई है तथा प्रशिक्षित युवाओं की आवश्यकता उपलब्धता से भी अधिक है, इसीलिए युवाओं को अधिक से अधिक स्किल डेवलपमेंट प्रोग्रामों में प्रवेश लेकर प्रशिक्षित बनकर देश के बढ़ते औद्योगिकीकरण में सहभागिता देनी चाहिए अथवा किसी भी उद्योग का हिस्सा बने या स्वयं का व्यवसाय प्रारम्भ कर रोजगार प्रदाता बने l


Copyright © 2019 Shree Balaji Pvt ITI, JAIPUR